Saturday, May 21, 2016

Unknown

Kese banaye apne ghar pr garh vatika-home gardening tips hindi me

नमस्कार मित्रों ये एक gest पोस्ट है। यदि आपके पास भी किसानों के लिए अपने विचार या कोई idea हो तो हमें लिखे । कैसे लिखना है नीचे दी गयी लिंक को ओपन कर के पढ़े ।

घर पर गृह वाटिका- home garden-  कैसे और क्यों बनाये जाने हिंदी में 

Home garden tips hindi me
होम गार्डन टिप्स 

आज रासायनिक और कीटनाशक के अंधाधून प्रयोग ने जहर को हमारी थाली तक पंहुचा दिया है। जो रासायनिक कीटनाशक, फफुदनाशक,निदानाशक,आदि दवाइयों के प्रयोग का प्रचलन इस तरह बड रहा है।की उसका प्रभाव अब हमारे रोज़मर्रा जीवन यापन के लिए उपयोग हो रही रोटी सब्जी जूस और अंडे आदि में इन रासायनिको  के अंश अत्यधिक आने लगे है।और कभी कभी तो इन रासायनिको की मात्रा इतनी अधिक हो जाती है। की हमारी खाद्य सामग्री खाने योग्य नही रह जाती है।

कैसे होता है इन रासायनिको का उपयोग 

>>अधिक पैसा कमाने के लालच में गाय,भैस,और अन्य दुधारी पशु में अधिक दूध उत्पादन के लिए ऑक्सीटोसिन और बोवेन ग्रोथ हारमोन का इंजेक्शन लगाया जाता है।जिसके दुष्प्रभाव से लड़कियाँ समय से पहले युवा अवस्था और स्त्रियों में अचानक गर्भपात तक हो जाते है। और कैंसर जैसे रोग भी लगने की संभावना बड जाती है।
>>इसी तरह सब्जी और फलो को को समय से पहले पकाने के लिए कैल्शियम कार्बाइड ग्लेशियल ऐसेटिक एसिड, पोटेशियम मेटाबाइसल्फाइट और सोडियम बेंजोएट जैसे रासायनिको से पकाया जाता है। जिसका मानव शरीर पर घातक प्रभाव पड़ सकता है। जिसके कारण नर्वस सिस्टम और मस्तिष्क सम्बन्धित बीमारियाँ जैसे हेडेक,डिप्रेशन,अनिद्रा,मानसिक तनाव और चिड़चिड़ापन आदि होती है।
और यदि डॉक्टरों का मानना है की coppeg सल्फाएड का 10 mg से ज्यादा का डोज लेने पर किडनी फेल तक हो जाती है।और मोत की भी संभावना बन जाती है। इसे रासायनिको के प्रयोग से डायरिया,बुखार,खून की उल्टियां,चकर आना लो ब्लड फ्रेशर आदि बीमारियां हो जाती है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा क्या है। और किसानों को क्या फ़ायदा होगा यहाँ पढ़े open।

इन सभी दुष्परिणामों को देखते हुए आवश्यक हो गया है की हम अपने आँगन बालकनी और गार्डन में किचन आदि जगह पर  गमले में अधिक से अधिक सब्जियों का उत्पादन करे।
इस तरह घर के पास पड़ी थोड़ी सी जगह में भी एक अच्छा होम  गार्डन तैयार कर सकते है।

होम गार्डन (kitchen garden) बनाते समय निम्न बातों का दे ध्यान।

1 गार्डन में सूर्य के प्रकाश की व्यवस्था होनी चाहिए।
2 पहले पेपर पर lay out तैयार करे ताकि जगह wastege ना हो जितनी जगह में किचन गार्डन तैयार करना हो उसे 6-10 smal bedsमें divide कर ले।और सभी beds की ऊचाई 6-12 इंच रखे। beds की चौड़ाई एक मीटर से ज्यादा ना रखे। ताकि hend opresion आसानी से कर सके। जैसे खरपतवार निकलना मिट्टी चढ़ाना आदि।
3 सभी beds के बीच में spech छोड़े ताकि सब्ज़ियाँ तोड़ने में आसानी हो ।

Ghar me सब्ज़ियाँ कहा कहा लगा सकते है जानें  open now

4 चलने के लिए छोड़ी गयी जगह पर प्लास्टिक मल्चिंग,स्ट्रामल्च या पाली मल्च का उपयोग करे ताकि खरपतवार नही हो सके।
5 पोषक तत्वों से भरपूर वाली मिट्टी का उपयोग करे और 4 or 5 इंच की वर्निकम्पोस की ley बना सकते है।
6 gardan के चारों कोनों पर फूल वाले पौधे लगाये जैसे गेंदे आदि ताकि sucking pest सब्जियों को नुकसान न पहुँचायें।
7 अधिक ऊचाई वाली सब्ज़ियाँ बेल वाली सब्ज़ियाँ जैसे करेला लोकी  तरोई आदि gardn के बीच में और उत्तर दिशा में लगाये ताकि वह मीडियम साइज़ वाली सब्जियों को छाँव मिल सके।
8 मध्य ऊचाई वाली सब्ज़ियाँ जैसे  धनिया मिर्च भिन्डी पत्तागोभी फूल गोभी आदि बीच में लगाये।
9 gardan के दक्षिण में कम बढ़ने वाली सब्ज़ियाँ लगाये जैसे गाजर मुली आलू अदरक प्याईज शलगम आदि लगाये ।
10  10×10 मीटर श्रेत्रफल के लिए सब्जियों की बिजो की मात्रा निम्न प्रकार से रखे।
मुली 10 ग्राम ,गाजर 20 ग्राम, शलजम 10 ग्राम 
पालक 50 ग्राम,मेथी 20 ग्राम, प्याज़ 10 ग्राम फूल गोभी 5 ग्राम बंद गोबी 5 ग्राम मिर्च 5 ग्राम टमाटर 5 ग्राम खीरा 5 ग्राम 
लोबिया 20 ग्राम । 

एक आदर्श किचन वाटिका के लिए फसल चक्र 

जनवरी माह में :- प्याज,आलू,तरबूज,फुल गोबी 
फरवरी माह में :- बैगन,भिन्डी, करेला,ककड़ी तोरी,मिर्च,तरबूज,खीरा
मार्च माह में :- बेगन,भिन्डी,खीरा,करेला,ककड़ी,तोरी,मुली।
अप्रेल माह में :- मुली पालक,चोलाई
मई माह में :- मुली पालक चोलाई कुल्फा भिन्डी 
जून माह में :- बेगन भिन्डी करेला फुलगोबी मुली टमाटर लोबिया टिंडा प्याज पालक 
जुलाई माह में :- बेगन भिन्डी फुलगोबी टमाटर खीरा लोबिया 
अगस्त माह में :- मुली पालक गाजर भिन्डी 
सितम्बर माह में :- फुलगोबी प्याज टमाटर आलू मुली पालक गाजर लोबिया सलगम
ओक्टम्बर माह में :- फुलगोबी टमाटर प्याज मटर आलू मुली पालक मेथी पतागोबी गाठ गोबी 
नवम्बर माह में :- मुली खिरा सलगम बद गोबी हरी प्याज मेथी बेगन
दिसम्बर माह में :- आलू फुलगोबी बंद गोबी गाजर शलगम 
hello my किसान दोस्तों ये पोस्ट मैंने लिखी है । आपको केसी लगी मुझे commet में जरूर बताये और और फेसबुक pege को लाइक जरुर करे।
आपका dost 

एक प्रगतिशील किसान 
Prashant Choudhary 
Jabalpur MP

Unknown

About Unknown -

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम yash jat है mykisandost.com मैने बनाई है 5 साल तक job करने के बाद अब में खेती करता हु में एक किसान का बेटा हु और हमेशा से ही खेती में मेरा लगाव रहा है मुझे खेती करना और अपने किसान दोस्तों की मदद करना अच्छा लगता है! जितना हो सके में उनसे सीखता हु और मेरे पास जो भी खेती किसानों से जुड़ी जानकारी होती है वो में इस webside के जरिये उनके साथ शेयर करता हु ताकि हम सब खेती से अधिक लाभ ले कर उन्नति कर सके...red more...

Hamari post Email par pane ke liye email id dale :

5 comments

Write comments
ram kumar
AUTHOR
March 3, 2017 at 12:32 PM delete

bhoot accha laga, jankari achi he.

dhanyevad

Reply
avatar
July 11, 2017 at 6:53 PM delete

Sir tulsi kon si company kharidegi kaise?

Reply
avatar
Unknown
AUTHOR
December 3, 2017 at 1:29 AM delete

dear प्रशांत, बहुत उपयोगी जानकारी है. बहुत बहुत धन्यवाद,

Reply
avatar
December 11, 2017 at 5:10 PM delete

Sir mene lahsun ki phasal boi h .2mah ho gaye h. Lekin kuchh lahsun ki nai pattiya spring jesi a rhi h. Lahsun ki nai pattiya ghum rhi h.kripya mujhe is bimari ke bare me bataiye or iski roktham bhi bataiye...

Reply
avatar

पोस्ट के बारे में अपनी राय और comment यहाँ करे।