Saturday, April 30, 2016

Unknown

kisaan अगेती सब्जिया लगाने के लिए करे इन tacnik का उपयोग और kamaye jyda pese

नमस्कार माय किसान दोस्तों 
पिछले दिनों मुझे एक मित्र जो की my kisan dost का regular विजिटर है। उन्होंने मुझे अगेती sabjiyo के लिए प्रश्न किया था।उनका प्रश्न था की जब भी वो अगेती सब्जी बोते थे उनके पौधे ख़राब हो जाते थे और जो पौधे बच जाते थे वो भी उतना अच्छा उत्पादन नही दे पाते थे। काफी बातचीत करने के उपरांत हम इस नतीजे पर पहुचे की मूल समस्या भूमि जनित रोगों और उचित वातावरण नही मिलने के कारण हो रही थी। और मित्रों ये बात तो हम सब जानते है। की आज के युग में यदि किसान सिर्फ पुराने तरीके से खेती करता है। तो अपने परिवार का पालन पोषण करना भी कठिन हो जाता है। इसलिए किसान को खेती के लिए aadhunik  और नई तकनीक को अपना कर ही लाभ ले सकता है ।
आज हम kisan dost me दो तकनीक पर जानकारी देंगे। जिससे हम अगेती सब्ज़ियाँ लगा कर अधिक लाभ ले सके।
अगेती सब्जी बोने के लिए हम इन दो विधियों को जानेंगे 

1 ट्रे कल्टीवेशन (tray cultivation)2 प्लास्टिक लो टनल ( plastik low tunnel)

तो जानते है क्या हे ये विधिया

1 ट्रे कल्टीवेशन:-

tray cultivation kya hota hai
tray cultivation 

 इस प्रक्रिया में कई नई तकनीकों का आविष्कार हुआ है। इस तकनीक के उपयोग का मुख्य कारण है भूमि जनित रोगों से मुक्ति और पानी की बचत एवं पोधों का संरक्षण करना है। सबसे पहले हम जानते है ट्रे कल्टीवेशन क्या है? जैसा की इसके नाम से ही स्पष्ट है। यानि की ट्रे में खेती करना। इस तकनीक में प्लास्टिक की खानेदार ट्रे का उपयोग किया जाता है। खाने इसे होने चाहिए जिसमे पोधों की जड़ का बेहतर विकास हो सके।और कम मिटटी और पानी के अधिक से अधिक सब्जियां उगाई जा सके। ट्रे में सबसे पहले ग्रीन नेट और जुट बिछा कर वर्निकम्पोस खाद् डाला जाता है। फिर सही तरीके से उपचारित किये गये बिजो को उँगली या किल से उस खाद् में गड्डा कर के बीज को बोया जाता है।प्रत्येक खाने में एक एक बीज बोया जाता है।आप इसमे कोकोपिट,वर्मीकुलाइट,परलाइट को आय तन के आधार पर 3:1:1 में मिलाकर भी बना सकते हे। बीजो में अंकुरण के लिए पर्याप्त नमी आवश्यक होनी चाहिए बीज अंकुरित होने के लिए 20 से 25 डिग्री तापमान अच्छा होता है। आप ट्रे के ऊपर मच्छर दानी की तरह नेट भी लगा दे ताकि पोधों को किट पतंग से सुरक्षा हो सके। अंकुरण के एक सप्ताह के बाद पौधे के लिए आवश्यक तत्व जैसे नाइट्रोजन,फास्फोरस,पोटाश को उचित अनुपात में 20:20:20 में घोल बना कर ट्रे में पानी के साथ दे। इस तकनीक से पौधे 25 से 30 में खेत में रोपने के लायक हो जाते है।

रोपण के समय सावधानियां:-

पोधों को ट्रे के खाने से सावधानी पूर्वक निकले जड़ न टूटने दे।
गर्मी के दिनों में रोपाई से पहले कीटनाशक का छिड़काव करना लाभदायक रहता है।
रोपाई सुबह या शाम को करे।
रोपाई के बाद तुरंत सिंचाई करे खेत में पानी भरा न रहे।
सिंचाई हल्की करे ताकि पौधे पानी के बहाव से निकले नही।

is taknik se faida:-

कम पानी और कम मिटटी के नर्सरी तैयार हो जाती है।
भूमि जनित रोगों से छुटकारा
रोग मुक्त पौधे तैयार हो जाते है।
आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है।
बे मौसम सब्जी को लगाया जा सकता है।
कम जगह में अधिक पोधों का रोप तैयार किया जा सकता है।
पौधे एक समान चाल से बढ़ते है। 
इस विधि से बेल वाली सब्जियों को नर्सरी तैयार आसानी से कर सकते है।
दोस्तों ये तो हुई ट्रे कल्टीवेशन की बात अब हम जानेंगे प्लास्टिक लो टनल के बारे में ।

2 प्लास्टिक लो टनल:-

Plastic Low Tunnel
प्लास्टिक लौ टनल 
प्लास्टिक लो टनल एक इसी तकनीक है जिसमे पौधे के रोपण के बाद कम ऊचा पर प्लास्टिक की चादर से ढका जाता है।ये तकनीक कम तापमान में पोधों की सुरक्षा के लिए उपयोग की जाती है जैसे पाले से फसल का नुक्सान आदि। इस तकनीक के जरिये पोधों को प्लास्टिक ट्रे में तैयार किया जाता है जैसा की ऊपर बताया गया है। इस तकनीक का उपयोग करने के लिए सबसे पहले खेत में उठी हुई क्यारिया उतर से दक्षिण दिशा में बनाई जाती है। फिर उसमे ड्रिप पाइप को बिछा या जाता है। फिर लोहे के पाइप(जंगरोधक) जिसकी मोटाई 2 मी.मी. हो उन्हें अर्ध गोलाई में मोड़ कर अँग्रेजी के उलटे U की आकृति दे पाइप के एक सिरे से दूसरे सिरे की बीच की दूरी 50 से 60 से.मी.रखे और दोनों पाइप के मध्य की ऊचाई भी 50 से 60 से.मी. रखे इन पाइप से पाइप U se U के बीच की दूरी 1.5 से 2 मीटर के बीच रखे।फिर उन्हें क्यारियो में लगा दे। साम को 3 बजे बाद उस पर 25 से 30 माइक्रोन की पारदर्शी प्लास्टिक की सीट से इस तरह ढँके की क्यारियो के ऊपर एक गुफा या सुरंग tyap से बन जाये अब उस सीट के दोनों सिरों को मिटटी से डक दे जैसे प्लास्टिक मल्चिंग में ढकते है।अब यदि रात के समय में कम तापमान है 5 डिग्री से कम पाला पड़ने की स्थिति हो तो सीट को सुरंग से नही हटाना है। धीरे धीरे तापमान बढ़ता है ।उस हिसाब से शिट में 2 मीटर की दूरी पर छोटे छोटे छेद करे ।जैसे जैसे तापमान में बढ़ोतरी होती है वैसे वैसे छेद की संख्या ओर आकर बढ़ाते जाए। फरवरी लास्ट और मार्च फ़र्स्ट तक शिट पूरी तरह से हटा दे।इस तकनीक से पोधों को पाले से बचाया जा सकता है साथ ही सब्जियों को अगेती कर के बाजार में अच्छे भाव लिए जा सकते है। और बेल वाली फसलो का अगेती कर सकते है । जिसमे लौकी,करेला,खरबूजा,खीरे को 30 से 40 दिन में तैयार कर सकते है।और ज्यादा से ज्यादा लाभ ले सकते है इस तकनीक से निरंतर अच्छे परिणाम मिल रहे है।सब्जियों की खेती करने वाले किसानों के लिए ये तकनीक काफी ज्यादा लाभदायक है।


किसान दोस्तों ये पोस्ट भी ज़रुर पढ़े*नई किस्म की सोयाबीन बोये और ज्यदा मुनाफा कमाए।
*प्लास्टिक मल्चिंग से किसानों को क्या क्या फ़ायदे है।
*बिना मिटटी के खेती कैसे करे जाने तरीका।
*वैज्ञानिक तरीके से कैसे करे बैंगन की खेती जाने तरीका।


My kisan dost फेसबुक पेज को like यहाँ करे।हमारे Fb ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ ओके करे।GOOGLE+ पर जुड़ने के लिए फ्लो करे।
कृषि और किसानों से जुड़ी फ्री में जानकारियां पाने के लिए हमें emai subcraibe करे और हमारी सभी पोस्ट को फेसबुक के माध्यम से पाने के लिए like करे।

Unknown

About Unknown -

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम yash jat है mykisandost.com मैने बनाई है 5 साल तक job करने के बाद अब में खेती करता हु में एक किसान का बेटा हु और हमेशा से ही खेती में मेरा लगाव रहा है मुझे खेती करना और अपने किसान दोस्तों की मदद करना अच्छा लगता है! जितना हो सके में उनसे सीखता हु और मेरे पास जो भी खेती किसानों से जुड़ी जानकारी होती है वो में इस webside के जरिये उनके साथ शेयर करता हु ताकि हम सब खेती से अधिक लाभ ले कर उन्नति कर सके...red more...

Hamari post Email par pane ke liye email id dale :

2 comments

Write comments
November 30, 2016 at 10:09 AM delete

Dear sir, I am searching for kitchen gardening tips and tricks in this I found your site very useful but my one request to you is if you can provide the item & topics wise head to toe detail so that one new layman like me can be benefited by this..thanks

Reply
avatar
Yash- Jat
AUTHOR
December 2, 2016 at 9:27 AM delete

Thanks satish ji
Me kosis kruga ki best kr pau taki sabhi ko benifits ho sake

Reply
avatar

पोस्ट के बारे में अपनी राय और comment यहाँ करे।